हम और तुम - Hum Aur Tum (Lata Mangeshkar, Kishore Kumar, Daag)

Movie/Album: दाग (1973)
Music By: लक्ष्मीकांत-प्यारेलाल
Lyrics By: साहिर लुधियानवी
Performed By: लता मंगेशकर, किशोर कुमार

हम और तुम, तुम और हम
ख़ुश हैं यूँ आज मिल के
जैसे किसी संगम पर, मिल जाए दो नदियाँ
तन्हाँ बहते-बहते
हम और तुम...

मुड़ के क्यूँ देखें, पीछे चाहे कुछ भी हो
चलते ही जाएँ, नई मंज़िलों को
रस्ते आसाँ हैं, नहीं आज हम दो
तू मेरी बाहों में, मैं तेरी बाहों में
लहराएँ राहों में, चलें झूमते
हम और तुम...

ज़ुल्फ़ों को खिलने दो, साँसों को घुलने दो
दिल से दिल तुलने दो
दीवाने हो जाएँ, कोहरे में खो जाएँ
मिल के यूँ सो जाएँ
जैसे किसी परबत पर, मिल जाएँ दो बादल
तन्हाँ उड़ते-उड़ते
हम और तुम...

जा तोसे नहीं बोलूँ - Ja Tose Nahin Bolun (Lata Mangeshkar, Md.Rafi, Samrat Chandragupta)

Movie/Album: सम्राट चन्द्रगुप्त (1958)
Music By: कल्याणजी वीरजी शाह
Lyrics By: भरत व्यास
Performed By: लता मंगेशकर, मोहम्मद रफ़ी

जा तोसे नहीं बोलूँ, घूँघट नहीं खोलूँ
क्यों चोरी-चोरी मुझसे, यूँ नज़रें मिलाये
जा तोसे नही बोलूँ...

रूठों न यूँ अलबेली, हमने तो की अटखेली
क्यों गोरी-गोरी सूरत, घूँघट में छुपाये
जा तोसे नही बोलूँ...

तुम तो सजन मन के, चितचोर बड़े हो
मुँहज़ोर बड़े हो, जी कठोर बड़े हो
अजी तीर नज़र के जी, जिगर पार गये हैं
जीत गये तुम, और हम हार गये हैं
पकड़ो न मोरी बैयां, सैयां मैं पडूँ पैयाँ
क्यों चोरी चोरी मुझसे...

रूठने की अच्छी, ये रीत नहीं है
फेर लिया मुखड़ा, तो प्रीत नहीं है
अजी हमसे बनाओ ना पिया झूठी ये बातें
जान गये हम तेरी, नज़रों की ये घातें
नजरों की ये घातें, जी पिया झूठ ये बातें
मुड़-मुड़ के न यूँ ताको, घूँघट से न यूँ झाँको
क्यों गोरी-गोरी सूरत...