क्यों हमसे खफा हो गए - Kyon Humse Khafa Ho Gaye (Mehdi Hassan, Salam-e-Mohabbat)

Movie/Album: सलाम-ए-मोहब्बत (1971)
Music By: रशीद अत्रे
Lyrics By: क़तील शिफाई
Performed By: मेहदी हसन

क्यों हमसे खफ़ा हो गए, ऐ जान-ए-तमन्ना
भीगे हुए मौसम का मज़ा क्यों नहीं लेते
क्यूँ हमसे खफ़ा हो गए

ये रात, ये बरसात, ये सावन का महीना
ऐसे में तो शोलों को भी आता है पसीना
इस रुत में गरीबों की दुआ क्यों नहीं लेते
भीगे हुए मौसम का...
क्यूँ हमसे खफ़ा हो गए

देखो तो ज़रा झाँक के बाहर की फ़ज़ा में
बरसात ने इक आग लगा दी है हवा में
इस आग को सीने में बसा क्यों नहीं लेते
भीगे हुए मौसम का...
क्यों हमसे खफ़ा हो गए

आया है किसे रास जुदाई का ये आलम
तड़पेंगे अकेले में उधर आप, इधर हम
दिल, दिल से मेरी जान मिला क्यों नहीं लेते
भीगे हुए मौसम का...
क्यों हमसे खफ़ा हो गए...

क्यूँ पूछते हो - Kyun Puchhte Ho (Mehdi Hassan, Bahisht)

Movie/Album: बहिश्त (1974)
Music By: राशिद अत्रे
Lyrics By: रिआज़ शाहिद
Performed By: मेहदी हसन

क्यों पूछते हो, क्या तुमसे कहूँ
मैं किस लिए जीता हूँ
शायद के कभी मिल जाओ कहीं
मैं इसलिए जीता हूँ
क्यों पूछते हो...

जीने का मुझे कुछ शौक़ नहीं
बस वक्त गुज़ारा करता हूँ
कुछ देर उलझ कर यादों में
दुनिया से किनारा करता हूँ
मरता भी उसी की खातिर हूँ
मैं जिस लिए जीता हूँ
शायद के कभी मिल जाओ कहीं
मैं इसलिए जीता हूँ

मैं हूँ के सुलगता रहता हूँ
बुझता भी नहीं, जलता भी नहीं
दिल है कि तड़पता रहता है
रुकता भी नहीं चलता भी नहीं
जीने की तमन्ना मिट ही चुकी
फिर किस लिए जीता हूँ
शायद के कभी मिल जाओ कहीं
मैं इसलिए जीता हूँ
क्यूँ पूछते हो...