दर्द अपनाता है - Dard Apnaata Hai (Jagjit Singh, Silsilay)

Movie/Album: सिलसिले (1970)
Music By: जगजीत सिंह
Lyrics By: जावेद अख़्तर
Performed By: जगजीत सिंह

दर्द अपनाता है पराये कौन
कौन सुनता है और सुनाए कौन
दर्द अपनाता है...

कौन दोहराए पुरानी बातें
ग़म अभी सोया है, जगाए कौन

वो जो अपने हैं, क्या वो अपने हैं
कौन दुःख झेले, आज़माए कौन

अब सुकूँ है तो भूलने में है
लेकिन उस शख़्स को भुलाए कौन

आज फिर दिल है कुछ उदास-उदास
देखिये आज याद आए कौन
दर्द अपनाता है...

दिल ख़ुश है - Dil Khush Hai (Md.Rafi, Gazal)

Movie/Album: ग़ज़ल (1964)
Music By: मदन मोहन
Lyrics By: साहिर लुधियानवी
Performed By: मो.रफ़ी

दिल ख़ुश है, आज उनसे मुलाक़ात हो गई
गो दूर ही से बात हुई, बात हो गई
दिल ख़ुश है...

उनसे हमारा कोई त'आल्लुक़ तो बन गया
बिगड़े भी वो अगर, तो बड़ी बात हो गई
दिल ख़ुश है...

धड़कन बढ़ी तो साँस की ख़ुशबू बिखर गई
आँचल उड़ा तो रंग की बरसात हो गई
दिल ख़ुश है...

जी चाहता है मान ही लें अब ख़ुदा को हम
जिसका यकीं न था, वो करामात हो गई
दिल ख़ुश है...