Tips For Searching Your Song

To search for songs, you can search through Labels mentioned at the bottom of this blog. Best is to use (Ctrl+F).

All the songs are labelled with Movie, Year, Music By, Lyrics By, Performed By, Starting letter of the Song. You can search through tags too.

चुपके चुपके रात दिन - Chupke Chupke Raat Din (Ghulam Ali)

Movie/Album: निकाह (1982)
Music By: रवि शंकर
Lyrics By: हसरत मोहनी
Performed by: गुलाम अली

चुपके चुपके रात दिन आँसू बहाना याद है
हम को अब तक आशिकी का वो ज़माना याद है

तुझ से मिलते ही वो कुछ बेबाक हो जाना मेरा
और तेरा दांतों में वो उंगली दबाना याद है
चुपके चुपके रात दिन...

चोरी-चोरी हम से तुम आ कर मिले थे जिस जगह
मुद्दतें गुजरीं पर अब तक वो ठिकाना याद है
चुपके चुपके रात दिन...

खैंच लेना वो मेरा परदे का कोना दफ्फातन
और दुपट्टे से तेरा वो मुंह छुपाना याद है
चुपके चुपके रात दिन...

तुझ को जब तनहा कभी पाना तो अज राह-ऐ-लिहाज़
हाल-ऐ-दिल बातों ही बातों में जताना याद है
चुपके चुपके रात दिन...

आ गया गर वस्ल की शब् भी कहीं ज़िक्र-ए-फिराक
वो तेरा रो-रो के भी मुझको रुलाना याद है
चुपके चुपके रात दिन...

दोपहर की धुप में मेरे बुलाने के लिए
वो तेरा कोठे पे नंगे पांव आना याद है
चुपके चुपके रात दिन...

गैर की नज़रों से बचकर सब की मर्ज़ी के ख़िलाफ़
वो तेरा चोरी छिपे रातों को आना याद है
चुपके चुपके रात दिन...

बा हजारां इस्तिराब-ओ-सद-हजारां इश्तियाक
तुझसे वो पहले पहल दिल का लगाना याद है
चुपके चुपके रात दिन...

बेरुखी के साथ सुनना दर्द-ऐ-दिल की दास्तां
वो कलाई में तेरा कंगन घुमाना याद है
चुपके चुपके रात दिन...

वक्त-ए-रुखसत अलविदा का लफ्ज़ कहने के लिए
वो तेरे सूखे लबों का थर-थराना याद है
चुपके चुपके रात दिन...

बावजूद-ए-इद्दा-ए-इत्तक़ा 'हसरत' मुझे
आज तक अहद-ए-हवास का ये फ़साना याद है

11 comments :

  1. thank you very much for your so beautiful effort to presenting this in hindi... hats of to you my dear.

    ReplyDelete
  2. Thank you for the time you have spent for this lyrics.
    shijimol.

    ReplyDelete
  3. I think this ghazal has been written by Hasrat Mohani not Hasan Kamal, who may have written songs for the film Nikaah.

    ReplyDelete
  4. A very good effort.
    However, I think this ghazal is penned by Hasrat Mohani not Hasan Kamaal, who may have written songs for the film Nikaah. The maqta missing here is
    "Bawajood-e-iddaa-e-ittaqaa 'Hasrat' mujhe
    Aaj tak ahad-e-havas ka ye fasaanaa yaad hai"

    ReplyDelete
  5. hum ko ab tak aasqiki ka wo jmana yaad hai......

    ReplyDelete
  6. thank u for posting this in devanagari It will be very kind if you give meaning of some complex urdu words or phrases like दफ्फातन, बा हजारां इस्तिराब-ओ-सद-हजारां इश्तियाक etc. or give a link where I can type in devanagari and see the urdu meaning. May god bless u

    ReplyDelete
  7. Music is composed by Ghulam Ali ji himself and not by Ravi, the composer of Nikaah

    ReplyDelete
  8. Rooh ko tadpa dene wali ghazal...aur kabhi na bhulaane wali ghazal hai.....main iske qurbaan...so jaan se

    ReplyDelete

Like this Blog? Let us know!