ये रात भीगी-भीगी - Ye Raat Bheegi Bheegi (Lata Mangeshkar, Manna Dey, Chori Chori)

Movie/Album: चोरी चोरी (1956)
Music By: शंकर जयकिशन
Lyrics By: हसरत जैपुरी
Performed By: लता मंगेशकर, मन्ना डे

ये रात भीगी-भीगी, ये मस्त फिजायें
उठा धीरे-धीरे, वो चाँद प्यारा प्यारा
क्यों आग सी लगा के, गुमसुम हैं चांदनी
सोने भी नहीं देता, मौसम का ये इशारा

इठलाती हवा, नीलम सा गगन
कलियों पे ये बेहोशी की नमी
ऐसे में भी क्यों बेचैन हैं दिल
जीवन में ना जाने क्या हैं कमी
ये रात भीगी-भीगी...

जो दिन के उजाले में ना मिला
दिल ढूंढें ऐसे सपने को
इस रात की जगमग में डूबी
मैं ढूंढ रही हूँ अपने को
ये रात भीगी-भीगी...

ऐसे में कहीं क्या कोई नहीं
भूले से जो हम को याद करे
एक हलकी सी मुसकान से जो
सपनों का जहां आबाद करे
ये रात भीगी-भीगी...

No comments :

Post a Comment

Like this Blog? Let us know!