ज्योत से ज्योत - Jyot Se Jyot (Lata Mangeshkar, Mukesh, Sant Gyaneshwar)

Movie/Album: संत ज्ञानेश्वर (1964)
Music By: लक्ष्मीकांत-प्यारेलाल
Lyrics By: भारत व्यास
Performed By: लता मंगेशकर, मुकेश

ज्योत से ज्योत जलाते चलो
प्रेम की गंगा बहाते चलो
राह में आये जो दीन दुखी
सब को गले से लगते चलो

जिसका ना कोई संगी साथी
इश्वर है रखवाला
जो निर्धन है जो निर्बल है
वो है प्रभु का प्यारा
प्यार के मोती लूटते चलो
ज्योत से...

आशा टूटी, ममता रूठी
छूट गया है किनारा
बंद करो मत द्वार दया का
दे दे कुछ तो सहारा
दीप दया का जलाते चलो
ज्योत से...

छाया है चारों और अँधेरा
भटक गयी है दिशाएं
मानव बन बैठा दानव
किसको व्यथा सुनाएँ
धरती को स्वर्ग बनाते चलो
ज्योत से...

कौन है ऊँचा कौन है नीचा
सब में वो ही समाया
भेद-भाव के झूठे भरम में
ये मानव भरमाया
धरम ध्वजा फहराते चलो
प्रेम की गंगा...

सारे जगत के कण-कण में है
दिव्य अमरएक आत्मा
एक ब्रह्मा है ek सत्य है
एक ही है परमात्मा
प्राणों से प्राण मिलाते चलो
प्रेम की गंगा ...

4 comments :

  1. India produced such great Saints and Sages who constantly spread the message of love and compassion; yet we have become a society of robots and automatons! As we specialise more and more; and become more machine like; this beautiful bhajan and many other sublime ones have an important role to play in sensitising our people. May the Divine forces help in making my people humane and loving and caring and may we rise above our individual self interest and move towards collectivisation and see the world as one extended family! Thanks.

    ReplyDelete
  2. I always appreciate the less known but highly knowledgeable people like lyricist. this poem shows the depth of experience of sri bharat vyas ji.my pranam to him.

    ReplyDelete

Like this Blog? Let us know!