ओ माझी रे - O Majhi Re (Shaan, The Bong Connection)

Movie/Album : द बौंग कनेक्शन (2006)
Music By : नील दत्ता
Lyrics By : अनजन दत्ता
Performed By : शान

आमार प्रोथोम दैखा ब्रिष्टिर जौले
(In the rains that I first saw in my life)
(मैंने जब पहली बार जिंदगी में बारिश देखी)


भाशियेछी भैला खैलार छौले
(I set afloat a paper boat in playful mood)
(उस लड़कपन में मैंने अपने कागज़ के नाव को बहा दिया)


शेई जौल गैछे मीशे, कौन नौदिते
(Don’t know in which river that water flowed into)
(पता नहीं वह नदी का जल कहाँ खो गया है)


गैछे हारिये कौन शागोरे
(Don’t know in which sea it has got lost in)
(वह कौन से सागर में घुल के गुम हो गया है)


माझी रे, ओ माझी रे, देखेछो की तुमि तारे? – 2
(Oh Fisherman…. Have you seen it?)
(माझी, तूने क्या उसे कहीं देखा है?)


नोउको आमार, छेले बैलार, कागोजेर….
(The paper boat of my childhood days….)
(मेरे बचपन की वो कागज़ की नाव?)




आमार प्रौथोम पावा आंकार खाता,
(My first drawing book that I had got as a kid)
(मेरी पहली चित्रकारी की किताब जो मुझे बचपन में मिली थी)


आमार प्रौथोम लैखा कोबिता,
(The first poem that I had written)
(मेरी पहली कविता जो मैंने लिखी थी)


शेई छेलेबैलार, शौप्नो हाजार,
(All those thousands of dreams that I had in my childhood days)
(वो हजारों सपने जो मैंने लड़कपन में देखे थे)


गैछे हारिये कौन शागोरे
(Don’t know in which sea they have got lost in)
(पता नहीं, किस सागर में खो गए हैं)

माझी रे...

नीली अम्बर सी नैया मेरी,
लहरों की धुन में बह चली,
गहरी सागर में तन्हां कहीं,
गीतों को तुम्हारे खोजती…

ऐकटा झौल्शे जावा बिकेल बेलाए
(On a sun-burnt evening)
(एक धूप ढली सांझ बेला)


ऐकटा लाल्चे शागोरेर जोले,
(In the red waters of the Sea)
(सागर के लाल पानी में)


जाए भेशे जाए शौप्नो बोझाय,
(There it goes filled with all my dreams)
(वो जा रही है मेरे सपनो से भरी हुई)


नौको आमार, कागोजेर
(My paper boat)
(मेरी नाव, कागज़ा की)


माझी रे, ओ माझी रे, देखा है क्या तुमने उसे,
कागज़ की नाव, में हैं भरे, सपने मेरे

No comments :

Post a Comment

Like this Blog? Let us know!