दूर - Duur (Strings, Duur)

Movie/Album: दूर (2000)
Music By: बिलाल मक़सूद
Lyrics By: अनवर मक़सूद
Performed By: स्ट्रिंग्स, फैज़ल कपाडिया, मिकैल कपाडिया

दूर से कोई आये
कहीं चुपके से वो दिल में समां जाए
साजना...

देखें मुझे जब वो आँखें, मैं खो जाऊं
इन आँखों के रस्ते, मैं उसके दिल में समाऊँ
कुछ कह ना पाऊँ उसे मैं, कुछ सुन ना पाऊँ
उसके बिना मेरा जीवन, जैसे कोई सूना गाँव
दूर...

सूरज की किरणों से बनता है चेहरा तुम्हारा
इक यही चेहरा है मेरा जीवन सहारा
आँखें तेरी मेरी नदियाँ, पलकें किनारा
लाखों दुखों में अकेला है मेरा ये दिल बेचारा
दूर...

1 comment :

  1. शुभागमन...!
    कामना है कि आप ब्लागलेखन के इस क्षेत्र में अधिकतम उंचाईयां हासिल कर सकें । अपने इस प्रयास में सफलता के लिये आप हिन्दी के दूसरे ब्लाग्स भी देखें और अच्छा लगने पर उन्हें फालो भी करें । आप जितने अधिक ब्लाग्स को फालो करेंगे आपके ब्लाग्स पर भी फालोअर्स की संख्या उसी अनुपात में बढ सकेगी । प्राथमिक तौर पर मैं आपको 'नजरिया' ब्लाग की लिंक नीचे दे रहा हूँ, किसी भी नये हिन्दीभाषी ब्लागर्स के लिये इस ब्लाग पर आपको जितनी अधिक व प्रमाणिक जानकारी इसके अब तक के लेखों में एक ही स्थान पर मिल सकती है उतनी अन्यत्र शायद नहीं । प्रमाण के लिये आप नीचे की लिंक पर मौजूद इस ब्लाग के दि. 18-2-2011 को प्रकाशित आलेख "नये ब्लाग लेखकों के लिये उपयोगी सुझाव" का माउस क्लिक द्वारा चटका लगाकर अवलोकन अवश्य करें, इसपर अपनी टिप्पणीरुपी राय भी दें और आगे भी स्वयं के ब्लाग के लिये उपयोगी अन्य जानकारियों के लिये इसे फालो भी करें । आपको निश्चय ही अच्छे परिणाम मिलेंगे । पुनः शुभकामनाओं सहित...

    नये ब्लाग लेखकों के लिये उपयोगी सुझाव.

    युवावय की चिंता - बालों का झडना ( धीमा गंजापन )

    ReplyDelete

Like this Blog? Let us know!