गुलाबी आँखें जो तेरी देखी - Gulabi Aankhein Jo Teri Dekhi (Md.Rafi, The Train)

Movie/Album: द ट्रेन (1970)
Music By: आर.डी.बर्मन
Lyrics By: आनंद बक्षी
Performed By: मो.रफ़ी

गुलाबी आँखें, जो तेरी देखी, शराबी ये दिल हो गया
सम्भालो मुझको, ओ मेरे यारों, सम्भलना मुश्किल हो गया

दिल में मेरे, ख़्वाब तेरे, तस्वीरें जैसे हों दीवार पे
तुझपे फ़िदा, मैं क्यूँ हुआ, आता है गुस्सा मुझे प्यार पे
मैं लुट गया, मान के दिल का कहा
मैं कहीं का ना रहा, क्या कहूँ मैं दिलरुबा
बुरा ये जादू तेरी आँखों का, ये मेरा क़ातिल हो गया
गुलाबी आँखें जो तेरी देखी...

मैंने सदा, चाहा यही, दामन बचा लूं हसीनों से मैं
तेरी क़सम, ख़्वाबों में भी, बचता फिरा नाज़नीनों से मैं
तौबा मगर, मिल गई तुझसे नज़र
मिल गया दर्द-ए-जिगर, सुन ज़रा ओ बेख़बर
ज़रा सा हँस के, जो देखा तूने, मैं तेरा बिस्मिल हो गया
गुलाबी आँखें जो तेरी देखी...

17 comments :

  1. no wordssssssssssss.......
    Supperbb...........

    ReplyDelete
  2. You are simply great Anand Bakshi Saheb. Rafi gave life to your wonderfully crafted lyrics and rocked Rajesh Khanna forever.

    ReplyDelete
  3. just rock on song...yar..!!

    ReplyDelete
  4. This is a Great collection

    ReplyDelete
  5. बहुत सुन्दर प्रतीक..

    हाँ, पहले अंतरा में "हुआ ये जादू" नहीं "बुरा ये जादू है" ऐसा मुझे सुन के लगता है.

    जय हिन्द!

    ReplyDelete
  6. @Anand: धन्यवाद गलती बताने के लिए. सही कर दिया है. धन्यवाद!

    ReplyDelete
  7. The lyrics, the music, the mesmerizing voice of Mohd. Rafi gives full justice. It's just a puff of fresh air

    ReplyDelete
  8. What a acastic song by great combination of music-composer, lyrics writer and Singer...

    ReplyDelete
  9. beautiful song...i love it..thank you.

    ReplyDelete
  10. I have never seen gulabi ankhein ,Plz show me

    ReplyDelete

Like this Blog? Let us know!