आफ़तों के परिंदे - Aafton Ke Parinde (Ishaqzaade, Suraj Jagan, Divya Kumar)

Movie/Album: इशकज़ादे (2012)
Music By: अमित त्रिवेदी
Lyrics By: कौसर मुनीर
Performed By: सूरज जगन, दिव्या कुमार

आफ़तों के परिंदे इशकज़ादे
दिल उड़ा देंगे फुर्र से इशकज़ादे
इश्क को आजमाने इशकज़ादे
फड़फड़ाते हैं फिर से इशकज़ादे

हलालों में, हरामो में
जो मिलते थे हज़ारो में
इशकज़ादे, इशकज़ादे
कहाँ है अब जहानों में
इशकज़ादे, इशकज़ादे, इशकज़ादे

सितारों में, तरानों में
जो मिलते थे फसानों में
इशकज़ादे, इशकज़ादे
कहाँ है अब जहानों में

दीवारे तोड़ दें, दरारे छोड़ दें
जिदों को मिटा दें
किनारे छोड़ दें, मौजों को मोड़ दें
हदों-सरहदों को खुदी से मिला लें हाँ
ना ज़मीं, ना फलक के, इशकज़ादे
खुश्खुदी के जहां में, इशकज़ादे
हलालों में, हरामो में...

No comments :

Post a Comment

Like this Blog? Let us know!