कल हो न हो - Kal Ho Na Ho (Sonu Nigam, Kal Ho Na Ho)

Movie/Album: कल हो न हो (2003)
Music By: शंकर एहसान लॉय
Lyrics By: जावेद अख्तर
Performed By: सोनू निगम

हर घड़ी बदल रही है रूप ज़िंदगी
छाँव है कभी, कभी है धूप ज़िंदगी
हर पल यहाँ जी भर जियो
जो है समाँ कल हो न हो

चाहे जो तुम्हें पूरे दिल से
मिलता है वो मुश्किल से
ऐसा जो कोई कहीं है
बस वो ही सबसे हसीं है
उस हाथ को तुम थाम लो
वो मेहरबाँ कल हो न हो
हर पल यहाँ...

पलकों के ले के साये
पास कोई जो आये
लाख सम्भालो पागल दिल को
दिल धड़के ही जाये
पर सोच लो इस पल है जो
वो दास्ताँ कल हो न हो
हर घड़ी बदल रही है...

3 comments :

Like this Blog? Let us know!