हवा हवाई - Hawa Hawai (Kavita Krishnamurthy, Mr. India)

Movie/Album: मिस्टर इंडिया (1987)
Music By: लक्ष्मीकान्त-प्यारेलाल
Lyrics By: जावेद अख्तर
Performed By: कविता कृष्णमूर्ति

मैं ख़्वाबों की शहज़ादी
मैं हूँ हर दिल पे छाई
बादल है मेरी ज़ुल्फ़ें
बिजली मेरी अंगड़ाई
बिजली गिराने मैं हूँ आई
कहते हैं मुझको हवा हवाई
हवा हवाई...

समझे क्या हो नादानों, मुझको भोली ना जानो
मैं हूँ साँपों की रानी, काँटा मांगे ना पानी
सागर से मोती छीनूं, दीपक से ज्योति छीनूं
पत्थर से आग लगा लूं, सीने से राज़ चुरा लूं
(जीनू)जानूं जो तुमने बात छुपाई
कहते हैं मुझको हवा हवाई...

लाई रंगीं अफ़साने, तू भी सुन ले दीवाने
आ दिल में हलचल कर दूं, आ तुझको पागल कर दूं
मेरी आँखों में जादू, मेरी साँसों में ख़ुश्बू
जब मेरा ये तन लचके, जाए ना कोई बचके
सूरत ही मैंने ऐसी पाई
कहते हैं मुझको हवा हवाई...

2 comments :

Like this Blog? Let us know!