ज़हनसीब - Zehnaseeb (Chinmayi Sripada, Shekhar, Hasee Toh Phasee)

Movie/Album: हँसी तो फँसी (2014)
Music By: विशाल-शेखर
Lyrics By: अमिताभ भट्टाचार्य
Performed By: चिन्मयी श्रीपद, शेखर रव्जियानी

ज़हनसीब, ज़हनसीब
तुझे चाहूँ बेताहाशा ज़हनसीब
मेरे क़रीब, मेरे हबीब
तुझे चाहूँ बेताहाशा ज़हनसीब

तेरे संग बीते हर लम्हें पे हमको नाज़ है
तेरे संग जो न बीते उसपे ऐतराज़ है
इस क़दर हम दोनों का मिलना एक राज़ है
हुआ अमीर, दिल ग़रीब
तुझे चाहूँ बेताहाशा ज़हनसीब...

लेना-देना नहीं दुनिया से मेरा बस तुझसे काम है
तेरी अँखियों के शहर में यारा सब इंतज़ाम है
ख़ुशियों का एक टुकड़ा मिले, या मिले ग़म की खुरचने
यारा तेरे-मेरे खर्चे में दोनों का ही एक दाम है
होना लिखा था यूँ ही जो हुआ
या होते-होते अभी अनजाने में हो गया
जो भी हुआ, हुआ अजीब
तुझे चाहूँ बेतहाशा ज़हनसीब...

2 comments :

Like this Blog? Let us know!