प्यार दो प्यार लो - Pyar Do Pyar Lo (Mika Singh, Thank You)

Movie/Album: Thank You (2011)
Music By: प्रीतम चक्रवर्ती
Lyrics By: कुमार
Performed By: मिका सिंह

गुल बत्ती कमरे की हो जाए तो तो, तो प्यार दो प्यार लो
अरे बेचैन दिल ठरकी हो जाए तो तो, तो प्यार दो प्यार लो
बेनमक पे असर, दाल जैसी अगर
घर की मुर्गी आ जाए तो
प्यार दो, प्यार लो...

हाँ दिल तो तबीयत से थोड़ा सा शौक़ीन, थोड़ा सा रंगीन है
हर साथ बैरों का पहरा है, ये मामला थोड़ा संगीन है
है हुस्न की खेतियाँ हर तरफ, यार मौका है दस्तूर भी
फेरे निभाएं या कांटे फसल थोड़ा, कन्फयूज़ ये सीन है
हो सावन में दिल मोर हो जाए तो
प्यार दो, प्यार लो
हाय तनहा यूँ ही बोर हो जाए तो
प्यार दो, प्यार लो
बंदिशें तोड़ कर, बेकरारी अगर बड़ी जोर हो जाए तो
प्यार दो, दो प्यार लो...

हो जंग लग ना जाए जवानी, इसे यारो थोड़ी रवां तो करो
लड्डू जो फूटे कभी सब्र टूटे तो, तुम ना किसी से डरो
सीने के अंदर जो अरमान है, उनको यूँ क़ैद रहने ना दो
आँखें वक़्त से कैद ना रहो, उसके आगे भी तुम कुछ करो
हो गुल बत्ती कमरे की हो...

No comments :

Post a Comment

Like this Blog? Let us know!