मोह मोह के धागे - Moh Moh Ke Dhaage (Papon, Monali Thakur, Dum Laga Ke Haisha)

Movie/Album: दम लगा के हईशा (2015)
Music By: अनु मलिक
Lyrics By: वरुण ग्रोवर
Performed By: पैपॉन, मोनाली ठाकुर

ये मोह मोह के धागे तेरी उँगलियों से जा उलझे
कोई टोह टोह ना लागे, किस तरह गिरह ये सुलझे
है रोम रोम एक तारा, जो बादलों में से गुज़रे

तु होगा ज़रा पागल तूने मुझको है चुना
कैसे तूने अनकहा, तूने अनकहा सब सुना
तु दिन सा है, मैं रात
आना दोनों मिल जाए शामों की तरह
ये मोह मोह के धागे...

के ऐसा बेपरवाह मन पहले तो ना था
चिट्ठियों को जैसे मिल गया, जैसे इक नया सा पता
खाली राहें, हम आँख मूंदें जाएँ
पहुंचे कहीं तो बेवजह
ये मोह मोह के धागे...

के तेरी झूठी बातें मैं सारी मान लूँ
आँखों से तेरे सच सभी, सब कुछ अभी जान लूँ
तेज है धारा, बहते से हम आवारा
आ थम के साँसे ले यहाँ
ये मोह मोह के धागे...

11 comments :

Like this Blog? Let us know!