जनम जनम - Janam Janam (Arijit Singh, Antara Mitra, Dilwale)

Movie/Album: दिलवाले (2015)
Music By: प्रीतम चक्रवर्ती
Lyrics By: अमिताभ भट्टाचार्य
Performed By: अरिजीत सिंह, अन्तरा मित्रा

जनम जनम जनम, साथ चलना यूँ ही
कसम तुम्हें कसम, आ के मिलना यहीं
एक जां है भले, दो बदन हों जुदा
मेरी हो के हमेशा ही रहना
कभी ना कहना अलविदा
मेरी सुबह हो तुम्हीं, और तुम ही शाम हो
तुम दर्द हो, तुम ही आराम हो
मेरी दुआओं से आती है बस ये सदा
मेरी हो के हमेशा ही रहना
कभी ना कहना अलविदा...

तेरी बाहों में है मेरे दोनों जहां
तू रहे जिधर, मेरी जन्नत वहीँ
जल रही अगन है जो ये दो तरफ़ा
ना बुझे कहीं मेरी मन्नत यहीं
तू मेरी आरज़ू, मैं तेरी आशिकी
तू मेरी शायरी, मैं तेरी मौसिकी
तलब तलब तलब, बस तेरी है मुझे
नसों में तू नशा बन के घुलना यूँ ही
मेरी मुहब्बत का करना हक़ ये अदा
मेरी हो के हमेशा ही रहना
कभी ना कहना अलविदा...
मेरी सुबह हो तुम्हीं...

No comments :

Post a Comment

Like this Blog? Let us know!