दिल दीवाने का डोला - Dil Deewane Ka Dola (Kumar, Anuradha, Babla, Tahalka)

Movie/Album: तहलका (1992)
Music By: अनु मलिक
Lyrics By: संतोष आनंद
Performed By: कुमार सानू, अनुराधा पौडवाल

दिल दीवाने का डोला, दिलदार के लिए
मैंने रंगा बसंती चोला, मेरे यार के लिए
दिल दीवाने का डोला...

ये प्यार भी है बीमारी
मेरी लाज शर्म गई है मारी
मुझे पगली कहे दुनिया सारी
मेरा तनमन ले हिचकोला
मेरे यार के लिए
दिल दीवाने का डोला...

ओ रब्बा कुछ करवा दे
कोई ऐसा जतन बता दे
मेरे यार से मुझे मिला दे
मैंने अंग-अंग मन घोला
मेरे यार के लिए
दिल दीवाने का डोला...

जो बीत गया है वो अब दौर ना आएगा
इस दिल मे सिवा तेरे कोई और ना आएगा
तू साथ ना दे मेरा, चलना मुझे आता है
हर आग से वाकिफ हूँ, जलना मुझे आता है
ये जीवन का पुतला, जल जाए भी तो क्या
मरने के लिए ऐसा, कोई दौर ना आएगा
जो बीत गया है वो अब दौर ना आएगा

थोड़े दिन की ज़िन्दगानी
आती जाती है जवानी
कहीं उतर न जाए पानी
ये राज़ अमर ने खोला
मेरे यार के लिए
दिल दीवाने का डोला...

Sad
ऐ भारत माँ तेरे चरणों में शीश चढ़ाने आए हैं
जितनी भी अपने पास बची, वो साँस चढ़ाने आए हैं
ये जान हथेली पर लेकर, कुछ कर दिखलाने आए हैं
है कफ़न का नापा जेबों में, हम मर मिट जाने आए हैं
लो मौत से प्राण को तोला
दिलदार के लिए
दिल दीवानों का डोला...
मेरा रंग दे बसंती चोला...

No comments :

Post a Comment

Like this Blog? Let us know!