दिल ने ये कहा है - Dil Ne Yeh Kaha Hai (Udit, Kumar, Alka, Sonu, Dhadkan)

Movie/Album: धड़कन (2000)
Music By: नदीम-श्रवण
Lyrics By: समीर
Performed By: उदित नारायण, कुमार सानू, अल्का याग्निक, सोनू निगम

उदित, कुमार, अल्का
दिल ने ये कहा है दिल से
मोहब्बत हो गई है तुमसे
मेरी जान मेरे दिलबर
मेरा ऐतबार कर लो
जितना बेकरार हूँ मैं
खुद को बेकरार कर लो
मेरी धड़कनों को समझो
तुम भी मुझसे प्यार कर लो
मेरी जान मेरे दिलबर...

तुम जो कह दो तो, चाँद-तारों को, तोड़ लाऊँगा मैं
इन हवाओं को, इन घटाओं को, मोड़ लाऊँगा मैं
कैसा मंज़र है मेरी आँखों में, कैसा एहसास है
पास दरिया है, दूर सहरा है, फिर भी क्यूँ प्यास है
कदमों में जहां ये रख दूँ
मुझसे आँखें चार कर लो
जितना बेकरार हूँ मैं...

मेरी यादों में, मेरे ख्वाबों में, रोज़ आते हो तुम
इस तरह भला, मेरी जाँ मुझे, क्यूँ सताते हो तुम
तेरी बाहों से, तेरी राहों से, यूँ ना जाऊँगा मैं
ये इरादा है, मेरा वादा है, लौट आऊँगा मैं
दुनिया से तुझे चुरा लूँ
थोड़ा इंतज़ार कर लो
जितना बेकरार हूँ मैं...

कैसे आँखें चार कर लूँ
कैसे ऐतबार कर लूँ
अपनी धड़कनों को कैसे
इतना बेकरार कर लूँ
कैसे तुझको दिल मैं दे दूँ
कैसे तुझसे प्यार कर लूँ

सोनू, अल्का
दिल ने ये कहा है दिल से
मोहब्बत हो गई है तुमसे
मेरी जान मेरे दिलबर
मेरा ऐतबार कर लो
जितना बेकरार हूँ मैं (है दिल)
खुद को बेकरार कर लो
मेरी धड़कनों को समझो
तुम भी मुझसे प्यार कर लो
मेरी जान मेरे दिलबर...

मेरे होठों पे, तेरे होठों की, प्यास ऐसी जगी
मन में मेरे भी, तन में तेरे भी, आग जलने लगी
सर्द मौसम है, गर्म आलम है, दिल में तूफ़ान है
बेकरारी है, क्या खुमारी है, कितने अरमान हैं
मेरी जान कह रही है, मुझपे जाँ निसार कर लो
जितना बेकरार हूँ मैं...

रात आधी है, बात आधी है, बहके-बहके कदम
एक दूजे को, ले के बाहों में, आ लिपट जाएँ हम
हो कैसी मस्ती है, कितनी मदहोशी, होश खोने लगा
तूने देखा जो ऐसी नज़रों से, कुछ तो होने लगा
अब तो यही तमन्ना, चाहत बेशुमार कर लो
जितना बेक़रार है दिल...

No comments :

Post a Comment

Like this Blog? Let us know!