सौ तरह के रोग - Sau Tarah Ke Rog (Amit Mishra, Jonita Gandhi, Dishoom)

Movie/Album: ढिशूम (2016)
Music By: प्रीतम चक्रबर्ती
Lyrics By: कुमार
Performed By: अमित मिश्रा, जोनिता गाँधी

कल सुबह सोचेंगे जो आज रात किया
कल सुबह गिन लेंगे सारी गलतियाँ
तू मेरा अभी हो जाना अजनबी
फिर हम मिलेंगे ना कभी
कल सुबह चले जायेंगे है घर जहाँ
कल सुबह बोले जो भी बोलेगा जहां
तू मेरा अभी हो जाना अजनबी
फिर हम मिलेंगे ना कभी

सौ तरह के रोग ले लूँ
इश्क़ का मर्ज़ क्या है
तू कहे तो जान दे दूँ
कहने में हर्ज़ क्या है
सौ तरह के...

बाहों को बाहों में दे दे तू जगह
तुझसे तो दो पल का मतलब है मेरा
तेरे जैसे ही मेरा भी दिल खुदगर्ज़-सा है
तू कहे तो जान...

कल सुबह तक झूठा वाला प्यार करें
कल सुबह तक झूठी बातें चार करें
तू मेरा अभी...

No comments :

Post a Comment

Like this Blog? Let us know!