महबूब मेरे - Mehboob Mere (Sunidhi Chauhan, Karsan Sargathiya, Fiza)

Movie/Album: फ़िज़ा (2000)
Music By: अनु मलिक
Lyrics By: तेजपाल कौर
Performed By: सुनिधि चौहान, करसन सरगाथिया

ढोला ढोल मंजीरा बाजे रे
काडी तिजरो घाघरा नजारो बाजे रे

महबूब मेरे, महबूब मेरे
तेरी आँखों से मुझे पीने दे
कुछ दर्द है मेरे सीने में
मुझे मस्त माहौल में जीने दे
महबूब मेरे, महबूब मेरे...

ओ ढोला, ओ ढोला, ओ ढोला
मुझे मस्त मस्त हाँ मस्त मस्त...

आँखों में काजल, पैरों में पायल
इन अदाओं से मैं, करूँ सबको घायल
महबूब की महबूबा तरसे
सच कह दे प्यारी कब बरसे
मैं तेरी दुल्हन बनने को
निकली हूँ सजधज के घर से
महबूब मेरे, महबूब मेरे...

ये नजर हमारी, है बड़ी करारी
समझो वो जीता, जिसपे दिल हारी
आ इश्क़ मोहब्बत कर ले तू
ये पल ना ठहरेंगे कल को
आ नरमी ले मेरी आँखों से
कुछ पता नहीं क्या हो कल को
महबूब मेरे, महबूब मेरे...

No comments :

Post a Comment

Like this Blog? Let us know!