सुनता है मेरा ख़ुदा - Sunta Hai Mera Khuda (Kavita Krishnamurthy, Swarnalatha, Udit Narayan, Pukar)

Movie/Album: पुकार (2000)
Music By: ए.आर.रहमान
Lyrics By: मजरूह सुल्तानपुरी
Performed By: कविता कृष्णामूर्ति, स्वर्णलता, उदित नारायण

सुनता है मेरा ख़ुदा
दिल-ओ-जान से चाहूँ तुझको
यारा दिलरुबा
ये ज़िन्दगी तेरे लिए, तेरे लिए
और तू मेरे लिए दिल की सदा है
सुनता है मेरा ख़ुदा...

सजन सुन तू भी इतना, कि तू है मेरा सपना
तू ही तो है मेरी आरज़ू
सनम ये बातें कैसी, कहाँ मेरी किस्मत ऐसी
कि बन जाऊँ तेरी आरज़ू
कहो तो मैं तेरे आगे, कमर बीच गजरा बांधें
डोलूँ नशीली चाल से
अदा हाय ऐसी कातिल, सहेगा तो कैसे ये दिल
तरस खाओ मेरे हाल पे
सुनता है मेरा ख़ुदा...

ये गुल-बूटे भी दिल है, यहाँ काँटे सब गुल हैं
ये रास्ते हैं अपने प्यार के
कहूँगा पर मैं इतना, कदम देख कर ही रखना
कहीं कोई ठोकर ना लगे
जो मिल गए दो दिल ऐसे, जुदा ये फिर होंगे कैसे
हमारी कहानी है यही
मुझे भी अब क्या करना है, तुझी पे जीना-मरना है
के अब ज़िन्दगानी है यही
सुनता है मेरा ख़ुदा...

1 comment :

Like this Blog? Let us know!