ये सफ़र बहुत है - Yeh Safar Bahut Hai (Shivaji Chattopadhyaya, 1942 A Love Story)

Movie/Album: 1942 अ लव स्टोरी (1994)
Music By: आर.डी.बर्मन
Lyrics By: जावेद अख़्तर
Performed By: शिवाजी चट्टोपाध्याय

दिल नाउम्मीद तो नहीं
नाकाम ही तो है
लम्बी है ग़म की शाम
मगर शाम ही तो है

ये सफ़र बहुत है कठिन मगर
न उदास हो मेरे हमसफ़र
ये सफ़र बहुत है...

ये सितम की रात है ढलने को
है अँधेरा ग़म का पिघलने को
ज़रा देर इसमें लगे अगर
न उदास हो मेरे हमसफ़र
ये सफ़र बहुत है...

नहीं रहने वाली ये मुश्किलें
के हैं अगले मोड़ पे मंज़िलें
मेरी बात का तू यक़ीन कर
न उदास हो मेरे हमसफ़र
ये सफ़र बहुत है...

कभी ढूँढ लेगा ये कारवाँ
वो नयी ज़मीं नया आसमाँ
जिसे ढूँढती है तेरी नज़र
न उदास हो मेरे हमसफ़र
ये सफ़र बहुत है...

No comments :

Post a Comment

Like this Blog? Let us know!