कहानियाँ सुनाती है - Kahaniya Sunaati Hai (Md.Rafi, Rajput)

Movie/Album: राजपूत (1982)
Music By: लक्ष्मीकांत-प्यारेलाल
Lyrics By: आनंद बक्षी
Performed By: मोहम्मद रफी

कहानियाँ सुनाती है
पवन आती जाती
एक था दीया, एक बाती
कहानियाँ सुनाती है...

बहुत दिनों की है ये बात, बड़ी सुहानी थी वो रात
दीया और बाती मिले, मिल के जले एक साथ
ये चाँद ये सितारे बने सारे बाराती
एक था दीया...

उठाई दोनों ने क़सम, जले बुझेंगे साथ हम
उन्हें ख़बर ना थी मगर, ख़ुशी के साथ भी है ग़म
मिलन के साथ-साथ ही जुदाई भी है आती
एक था दीया...

एक दिन गली गली, ऐसी कुछ हवा चली
आया एक झोंका, दे गया जो धोखा
ज्योत को चुरा के, ले गया उठा के
दिल दीये का बुझ गया, हो गयी बाती जुदा
हो गयी बाती जुदा
फिर भी उसने ये कहा, ज्योत को दी ये दुआ
तुझको कोई गम न हो, तुझको कोई गम न हो
रौशनी ये कम न हो, रौशनी ये कम न हो
तू किसी के घर जले, खुश रहे फूले फले
कहानियाँ सुनाती है...

No comments :

Post a Comment

Like this Blog? Let us know!