जीता हूँ/था जिसके लिए - Jeeta Hoon/Tha Jiske Liye (Kumar Sanu, Alka Yagnik, Dilwaale)

Movie/Album: दिलवाले (1994)
Music By: नदीम-श्रवण
Lyrics By: समीर
Performed By: अलका याग्निक , कुमार सानू

जीता हूँ जिसके लिए, जिसके लिए मरता हूँ
बस तू ही वो लडकी है, जिसे मैं प्यार करता हूँ

तेरा ही चर्चा, तेरी ही बातें, लब पे तेरा नाम है
दिलबर कसम से, तेरे ही दम से, मेरी सुबह शाम है
हमारी वफा के गवाह है, ज़मीन आसमान
बस तू ही वो लड़का है...

मेरी बहारें, मेरी मोहब्बत, तू ही मेरी आरजू
देखूं जिसे मैं, आँखों मे भर के, है वो हसीं ख्वाब तू
मैं कैसे जियूंगी तेरे बिन, तू है मेरी जान
बस तू ही वो लड़की है...

जीता था जिसके लिए
जीता था जिसके लिए, जिसके लिए मरता था
इक ऐसी लडकी थी, जिसे मैं प्यार करता था

कितनी मुहब्बत है मेरे दिल में, कैसे दिखाऊँ उसे
दीवानगी ने पागल किया है, कैसे बताऊँ उसे
मिटाने से भी न मिटेगी मेरी दास्ताँ
इक ऐसी लड़की थी...

मेरी नज़र में, मेरे जिगर में, तस्वीर है यार की
मेरी ख़ुशी क्या, ये ज़िन्दगी क्या, सौगात है प्यार की
उसी के लिए है मेरे तो, ये दोनों जहां
इक ऐसा लड़का था...

जां से भी ज्यादा, चाहा था जिसको, उसने ही धोखा दिया
नादान थी जो कुछ भी न समझी, चाहत को रुसवा किया
बना के उसी ने उजाड़ा, मेरा आशियाँ
वो कैसी लड़की थी...

No comments :

Post a Comment

Like this Blog? Let us know!