चुप तुम रहो - Chup Tum Raho (Chitra, M.M.Kreem, Is Raat Ki Subah Nahin)

Movie/Album: इस रात की सुबह नहीं (1996)
Music By: एम.एम.क्रीम (कीरवानी)
Lyrics By: निदा फ़ाज़ली
Performed By: चित्रा, एम.एम.क्रीम

चुप तुम रहो, चुप हम रहें
ख़ामोशी को ख़ामोशी से
ज़िन्दगी को ज़िन्दगी से
बात करने दो
चुप तुम रहो...

आँखों में खो जाये आँखें
बोले हाथ से हाथ
बाहों में छुप कर
साँसों से जैसे डोले रात
उँगलियों को उँगलियों से
हुस्नों को शोखियों से
बात करने दो
चुप तुम रहो...

होंठों पर होंठों से लिखें
बिन शब्दों के गीत
धरती से अंबर तक
गूंजे जिस्मों का संगीत
बेख़ुदी को बेख़ुदी से
आशिक़ी को आशिक़ी से
बात करने दो
चुप तुम रहो...

No comments :

Post a Comment

Like this Blog? Let us know!