पोंछ कर अश्क - Ponchh Kar Ashq (Md.Rafi, Naya Raasta)

Movie/Album: नया रास्ता (1970)
Music By: एन.दत्ता
Lyrics By: साहिर लुधियानवी
Performed By: मोहम्मद रफ़ी

पोंछकर अश्क अपनी आँखों से
मुस्कुराओ तो कोई बात बने
सर झुकाने से कुछ नहीं होगा
सर उठाओ तो कोई बात बने
पोंछ कर अश्क...

ज़िन्दगी भीख में नहीं मिलती
ज़िन्दगी बढ़ के छीनी जाती है
अपना हक़ संगदिल ज़माने से
छीन पाओ तो कोई बात बने
सर झुकाने से...

रंग और नस्ल, ज़ात और मज़हब
जो भी हो, आदमी से कमतर है
इस हक़ीक़त को तुम भी मेरी तरह
मान जाओ तो कोई बात बने
सर झुकाने से...

नफरतों के जहान में हमको
प्यार की बस्तियाँ बसानी है
दूर रहना कोई कमाल नहीं
पास आओ तो कोई बात बने
पोंछ कर अश्क...

No comments :

Post a Comment

Like this Blog? Let us know!