जब भी कोई कंगना - Jab Bhi Koi Kangna (Kishore Kumar, Shaukeen)

Movie/Album: शौकीन (1982)
Music By: राहुल देव बर्मन
Lyrics By: आनंद बक्षी
Performed By: किशोर कुमार

जब भी कोई कंगना बोले, पायल छनक जाये
सोयी सोयी दिल की धड़कन, सुलग सुलग जाये
करूँ जतन लाख मगर मन, मचल मचल जाये
मचल मचल जाये
जब भी कोई कंगना...

छलक गये रंग जहाँ पर, उलझ गये नैना रे नैना
उलझ गये नैना
पाये नहीं मन बंजारा, कहीं भी ये चैना रे चैना
कहीं भी ये चैना
मेरे मन की प्यास अधूरी, मुझे भटकाए
जब भी कोई कंगना...

कली कली झूमे रे भँवरा, अगन पे जल जाये पतंगा
अगन पे जल जाये
चंदा को चकोर निहारे, इसी में सुख पाये रे पाये
इसी में सुख पाये
जीवन से ये रस का बंधन, तोड़ा नहीं जाये
जब भी कोई कंगना...

No comments :

Post a Comment

Like this Blog? Let us know!